* मेरी जिंदगी में तो आये न थे*

याद में ख्वाब में गीत में दिल मे थे।
तुम मेरी जिंदगी में तो आये न थे।।

तुम करो याद हमको पहर दो पहर।
पर मेरी याद में छटपटाये न थे।।

दिल ही दिल मे मैं बातें करूँ इस कद़र।
लव तेरे सामने फिर हिलाए न थे।।

दिल ए रोया बहुत उफ़ न बोले अधर।
अश्क़ गालों पे हमने गिराए न थे।।

मेरे जाने का अफ़सोस करना नही।
हम स़दा के लिए जग में आये न थे।।

याद आता हमें वो अधूरा सफ़र।
जिंदगी भर चले पास आये न थे।।

हर घड़ी प्यार की ‘ज्योति’ दिल में जले।
आप समझ़े नही हम पराये न थे।।

श्रीमती ज्योति श्रीवास्तव
p/s खिरैंटी
साईंखेड़ा

Like 1 Comment 0
Views 7

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing