.
Skip to content

मेरी जन्मभूमि

purushottam sinha

purushottam sinha

कविता

August 13, 2017

है ये स्वाभिमान की, जगमगाती सी मेरी जन्मभूमि…

स्वतंत्र है अब ये आत्मा, आजाद है मेरा वतन,
ना ही कोई जोर है, न बेवशी का कहीं पे चलन,
मन में इक आश है,आँखों में बस पलते सपन,
भले टाट के हों पैबंद, झूमता है आज मेरा मन।

सींचता हूँ मैं जतन से, स्वाभिमान की ये जन्मभूमि…

हमने जो बोए फसल, खिल आएंगे वो एक दिन,
कर्म की तप्त साध से, लहलहाएंगे वो एक दिन,
न भूख की हमें फिक्र होगी, न ज्ञान की ही कमी,
विश्व के हम शीष होंगे, अग्रणी होगी ये सरजमीं।

प्रखर लौ की प्रकाश से, जगमगाएगी मेरी जन्मभूमि…

विलक्षण ज्ञान की प्रभा, लेकर उगेगी हर प्रभात,
विश्व के इस मंच पर,अपने देश की होगी विसात,
चलेगा विकाश का ये रथ, या हो दिन या हो रात,
वतन की हर जुबाॅ पर, होगी स्वाभिमान की बात।

स्वतंत्र इस विचार से, गुनगुनाएगी ये मेरी जन्मभूमि…

Author
purushottam sinha
A Banker, A Poet... I love poems...
Recommended Posts
बयाँ-ए-कश्मीर
मैंने कहा कि धरती की है स्वर्ग ये जगह उसने कहा की अब तुम्हारी बात बेवजह सुनता जरूर हूँ कि थी ये खुशियों की ज़मीं... Read more
माँ ....कैसे जियूँ तेरे बिन
हर माँ की एक ही चाहत , जीवन में बेटा आगे बढ़े बहुत , लगा देती तन मन उसके लिए , करती दुआएं लाख उसके... Read more
अचंभित हूँ ....(कहानी)
बात बीते साल की है ! जब मैं इस शहर मैं नया-नया सा था, अनजान शहर अनजाने लोग, पढ़ाई भी चल ही रही थी दूसरी... Read more
अधूरी सी कहानी तेरी मेरी – भाग ४
अधूरी सी कहानी तेरी मेरी – भाग ४ गतांक से से ............ सोहित के मन में तो तुलसी के प्रति प्रेम पनप चुका था, किन्तु... Read more