मेरी ग़ज़ल के दो शेर

तेरे शहर में रिश्तो का कोई सम्मान नहीं होता ,
मेरे गांव की तरह मेहमान, भगवान नहीं होता ।।
अपने हाथों से लिखते हैं तकदीर- ऐ -इबारत,
हम गरीबों की किस्मत में, वरदान नहीं होता ।।

106 Views
बस कभी कभी दिल करता है तो लिख लेता हूं । शिक्षा विभाग हरियाणा में...
You may also like: