.
Skip to content

मेरी ग़ज़ल के दो शेर

Shri Bhagwan Bawwa

Shri Bhagwan Bawwa

गज़ल/गीतिका

July 16, 2017

चेहरे पर मुखौटा , तेरे शहर के लोग लगाए रहते हैं ।
दिल में कुछ और होता है ,जुबां से कुछ और कहते हैं।
नए आये हैं हम तो, तुम्हारे शहर में सनम , लेकिन
कुछ दिलदार,इस शहर में , हम से पहले भी रहते हैं।।

Author
Recommended Posts
ग़ज़ल (इस शहर  में )
ग़ज़ल (इस शहर में ) इन्सानियत दम तोड़ती है हर गली हर चौराहें पर ईट गारे के सिबा इस शहर में रक्खा क्या है इक... Read more
आप हमसे यूँ मिले है शह्र में
आप हमसे यूँ मिले है शह्र में गुल ही गुल के सिलसिले है शह्र में अपनी सूरत आप ही देखा किये आईने ही आईने हैं... Read more
मेरी ग़ज़ल के दो शेर
तेरे शहर में रिश्तो का कोई सम्मान नहीं होता , मेरे गांव की तरह मेहमान, भगवान नहीं होता ।। अपने हाथों से लिखते हैं तकदीर-... Read more
वो आज भी इस बात से बेखबर है
वो आज भी इस बात से बेखबर है मेरी तन्हा राहों के वो हमसफ़र है शहर में जल रही आग की कहाँ फ़िक्र है आब... Read more