23.7k Members 49.9k Posts

मेरी क़लम से ...

रहने दे …

मेरी आँखों तेरे ख्वाब रहने दे
उम्र भर को दिले बेताब रहने दे ।

कुछ पल को सही मान मेरी
मुझे अपना इन्ताखाब रहने दे ।

सारे नजराने ठुकरा दे गम नहीं
अपने हाथों में मेरा गुलाब रहने दे ।

जानता हूँ राज़ तेरी खामोशी का
सवाल तो सुनले जवाब रहने दे ।

अब तो हक़ीक़त का कर सामना
सपनों से निकल ,किताब रहने दे
-अजय प्रसाद
📲9006233052
डी ए वी स्कूल पावर ग्रिड कैम्पस
बिहारशरीफ,नालंदा,बिहार 803216

Like 0 Comment 0
Views 14

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
AJAY PRASAD
AJAY PRASAD
307 Posts · 1.6k Views
Blessed with family and friends