Skip to content

मेरी कविता…. ।। अमीरी और गरीबी ।।

ishwar jain

ishwar jain

मुक्तक

July 14, 2017

अमीरी
और
गरीबी
समाज के दो पहलू
तस्वीर के दो रंग
श्वेत
और
श्याम ।
एक ओर
ऐश्वर्य तो
दूसरी ओर
अभाव –
मगर
दोनों ही पीड़ित
एक को अजीर्ण है
और
दूसरे को एनेमिया ।
नदी के दो किनारों की तरह
एक होकर भी
अलग अलग हैं
अपना अपना अस्तित्व लिए ।
(ईश्वर जैन, उदयपुर)

Author
ishwar jain
Recommended Posts
गरीबी
जिस तरह शाख से टूटकर पेड़ की पाती समय के साथ सूख जाती है नाव कैसी भी हो मगर नाविक पथ भूले तो मंझधार में... Read more
गरीबी बेच खरीद ली अमीरी मैंने
गरीबी बेच खरीद ली अमीरी मैंने, दर्द बेच ख़ुशी खरीद ली मैंने,, सफ़ेद से कुर्ते पाजामे में, एक बूढे, से आदमी को कहते सुना मैंने,,... Read more
अमीरी-गरीबी
अमीरी-गरीबी बहस छिड़ गयी एक दिन अमीरी और गरीबी में !! नाक उठा ‘अमीरी’ बोली बड़े शान से काम बन जाते है सिर्फ मेरे नाम... Read more
अमीरी - गरीबी का अन्तर
लघुकथा अमीरी - गरीबी का अन्तर - बीजेन्द्र जैमिनी साहब के घर का नौकर अपनी ईमानदारी तथा महेनत के बल पर वह साहब बन जाता... Read more