Skip to content

**मेरी कलम से सुनो ! लोकतंत्र का हाल***

Neeru Mohan

Neeru Mohan

कविता

March 4, 2017

**कलम की ताकत को मैं आज ,
समक्ष तुम्हारे लाया हूँ |
कितना अब तक बदल गए हैं ,
तस्वीर दिखाने आया हूँ |

**कितना बदले हम वर्षों में,
सब हाल बताने आया हूँ |
भारत माता के ज़ख्मों का,
हाल सुनाने आया हूँ |

**लोकतंत्र के वर्तमान का,
चित्र दिखाने आया हूँ |
भारत माता के जख्मों का,
हाल सुनाने आया हूँ |

**गम के बादल कहाँ छटे हैं ,
जहाँ खड़े थे वहाँ खड़े हैं ।
जाति धर्म की तलवारें हैं ,
लड़े कभी हम कभी बँटे हैं ।

**बाग बंट गया जलियाँवाला ,
किसकी ये गद्दारी है ।
खादी अपना चेहरा देखे ,
क्यूँ ऐसी मक्कारी है ।

**किसने सबके घर फूंके हैं ,
सबको आज बताऊँगा ।
कराह रही है मेरी माता ,
सबको पीर सुनाऊँगा ।

**खण्ड-खण्ड है मेरा भारत ,
तुम्हें दिखाने आया हूँ ।
लोकतंत्र के वर्तमान का ,
चित्र दिखाने आया हूँ ।

**कैसे भूलें नगर मुजफ्फर ,
जहाँ गली और गाँव जले ।
श्वेत कबूतर नेहरू जी के ,
पीपल वाली छाँव जले ।

**कैसे मानें वो दंगा था ,
महज चुनावी हथकंडा था ।
नहरों का पानी रक्तिम था ,
बूढ़ी माँ का लाल जला था |

**हूँ थूकता सिंहासन की ,
मैं ऐसी पगडंडी को ।
संसद ऐसे चला रहे है ,
मानो सब्ज़ी मंडी हो ।

**देश चलाने वालों का ,
किरदार दिखाने आया हूँ |
लोकतंत्र के वर्तमान का ,
चित्र दिखाने आया हूँ |

**रोज़ भगतसिंह फाँसी चढ़ता ,
रोज़ कहीं पर गाँधी मरता ।
रोज़ द्रोपदी चीर हरण है ,
रोज़ किसी का आँचल फटता ।

**बस पश्चिम की दौड़ लगी है ,
नंगे पन की होड़ लगी है ।
विवेकनंदी धरती धूमिल है ,
काम वासना बढ़ी-चढ़ी है ।

**रोज़ निरभ्या चीख रही है ,
अंधी काली रातों में ।
खूनी कोठी भरी पड़ी है ,
मासूमों की लाशों में ।

**मंगल तक जाने वालों को ,
ज़मी दिखाने आया हूँ ।
लोकतंत्र के वर्तमान का ,
चित्र दिखाने आया हूँ |

**कहीं अमीरी का परचम है ,
वही गरीबी का बचपन है ।
खाई दिनों दिन बढ़ती है ,
जितना कह दें उतना कम है ।

**कोई नशे में मटक रहा है ,
कोई भूख से तड़प रहा है ।
देखो कैसी वात बही है ,
भारत की बदलाव घड़ी है ।

**डिजिटल इंडिया चमक रहा है ,
तुम्हें दिखाने आया हूँ ।
लोकतंत्र के वर्तमान का ,
चित्र दिखाने आया हूँ ।

Author
Neeru Mohan
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on... Read more
Recommended Posts
जगाने आया हूँ
न कोई हंगामा न कोई बवाल करने आया हूँ बिगड़े हुए हालातो से आगाह करने आया हूँ सोये हुए है आजादी के दीवाने कई बरसो... Read more
गीत सुनाने निकली हूँ
भारत माँ की बेटी हूँ और गीत सुनाने निकली हूँ, वीरों की गाथा को जन जन तक पहुँचाने निकली हूँ, भारत माँ के शान के... Read more
कविता :सुनाने आया हूँ।
ग़रीब की आह!सुन दर्द दिखाने आया हूँ। मानवता हितैषी बन मर्ज़ सुनाने आया हूँ।। झोंपड़ी गुमसुम कभी अरमान लुटता भैया। डगमग जीवन की नाव सम्मान... Read more
यादें
तेरी यादों की गठरी को सुलगता छोड़ आया हूँ कभी जो ख्वाब था देखा सिसकता छोड़ आया हूँ। हमारा दिल जो बच्चा था अभी घुटनों... Read more