. . . मेरी इक गज़ल

ऐ मेरी ज़ानु , मैं क्यां ज़ानु ? तु युं हसती क्यूं हैं ?
गैर झुठी मुस्कुराहट पे युं फ़सती क्यूं हैं ?

हमने तो फ़ुलों की रंगीन सेज़ सज़ायी थी ,
ऐ रात अब काली नागिनसी ड़सती क्यूं हैं ?

इक – इक इट ज़ोड़ी प्यारे ताज़महल की ,
अब सुनसान मशान में मेरी बस्ती क्यूं हैं ?

बेशक बसाना था बहकी – बहकी बाहों में ,
अब इन आँख़ों में लहरों की यूं मस्ती क्यूं हैं ?

उससे ही सुना था , प्यार में सौंदा नहीं होता ;
तो अब दिल की किंमत इतनी सस्ती क्यूं हैं ?

उसे छुआँ तो हंगामा , युं ना हूआँ तो हंगामा ;
वो मासूम फ़िर , गैर आगोश कसती क्यूं हैं ?

कसम ख़ाई साहिल की , सौगंध मंजिल की ;
मज़धार में मेरी तुटी – फ़ुटी युं कश्ती क्यूं हैं ?

ख़ता थी , उस हँसी को मुस्कान समझ बैठे ;
फ़िर भी , वो संगदिल दिल में बसती क्यूं हैं ? . . .

– शायर : प्रदिपकुमार साख़रे
+917359996358.

Like Comment 0
Views 2

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share