Skip to content

. . . मेरी इक गज़ल

Pradipkumar Sackheray

Pradipkumar Sackheray

गज़ल/गीतिका

March 19, 2017

ऐ मेरी ज़ानु , मैं क्यां ज़ानु ? तु युं हसती क्यूं हैं ?
गैर झुठी मुस्कुराहट पे युं फ़सती क्यूं हैं ?

हमने तो फ़ुलों की रंगीन सेज़ सज़ायी थी ,
ऐ रात अब काली नागिनसी ड़सती क्यूं हैं ?

इक – इक इट ज़ोड़ी प्यारे ताज़महल की ,
अब सुनसान मशान में मेरी बस्ती क्यूं हैं ?

बेशक बसाना था बहकी – बहकी बाहों में ,
अब इन आँख़ों में लहरों की यूं मस्ती क्यूं हैं ?

उससे ही सुना था , प्यार में सौंदा नहीं होता ;
तो अब दिल की किंमत इतनी सस्ती क्यूं हैं ?

उसे छुआँ तो हंगामा , युं ना हूआँ तो हंगामा ;
वो मासूम फ़िर , गैर आगोश कसती क्यूं हैं ?

कसम ख़ाई साहिल की , सौगंध मंजिल की ;
मज़धार में मेरी तुटी – फ़ुटी युं कश्ती क्यूं हैं ?

ख़ता थी , उस हँसी को मुस्कान समझ बैठे ;
फ़िर भी , वो संगदिल दिल में बसती क्यूं हैं ? . . .

– शायर : प्रदिपकुमार साख़रे
+917359996358.

Share this:
Author
Pradipkumar Sackheray
Pr@d!pkumar $ackheray (The Versatile @rtist) : - Writer/Poet/Lyricist, Mimicry Artist, Anchor, Singer & Painter. . .

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

आज ही अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साथ ही आपकी पुस्तक ई-बुक फॉर्मेट में Amazon Kindle एवं Google Play Store पर भी उपलब्ध होगी

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

सीमित समय के लिए ब्रोंज एवं सिल्वर पब्लिशिंग प्लान्स पर 20% डिस्काउंट (यह ऑफर सिर्फ 31 जनवरी, 2018 तक)

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you