Sep 21, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

मेरी अभिलाषा

तात अब मैं भी स्कूल जाऊंगा
छोड़ के अपनी माँ की गोद, स्कूल में दौड़ लगाउँगा,

माँ ने मुझको आधार दिया, तुमने मुझको अभिमान दिया
इन सबको ही पाकर अब, शिक्षा को मैं अपनाऊंगा,

तात अब मैं भी स्कूल जाऊंगा

जीवन के हर एक रंगों से, खुद की तस्वीर सजाऊंगा,
रंग, जाति और धर्म, द्वेष इनको न खुद में समाऊंगा

है एक छोटी सी अभिलाषा, लिख लूँ खुद की एक परिभाषा ।

।। आकाशवाणी ।।

2 Likes · 177 Views
Copy link to share
Akash Yadav
12 Posts · 647 Views
Follow 1 Follower
You may also like: