.
Skip to content

मेरा हक, उन्हीं के कुत्ते खाते है।

पारसमणि अग्रवाल

पारसमणि अग्रवाल

कविता

July 9, 2017

अब वो हर रोज दीवाली मनाते है।
अच्छे दिन नस्ल पहचान कर आते है।
मोहताज है जो दो वक्त की रोटी को,
अपने हिस्से में दुःख ही दुःख पाते है।
अट्टू विश्वास है जिन पर,
मेरा हक, उन्हीं के कुत्ते खाते है।
वादा किया था गरीबी मिटाने का,
गरीबो को मिटाने का हुनर दिखाते है।

Author
Recommended Posts
जंगली और पालतू कुत्ते की मित्रता  (व्यंग्य- कविता)
जंगल से इक आया कुत्ता । बूटी मुँह में दाबे कुत्ता । उसे देखकर भौंका कुत्ता । जंगल के फिर उस कुत्ते को, इस कुत्ते... Read more
मुझको मेरा हक दो
--::---मुझको मेरा हक दो--::--- मुझको मेरा हक दो पापा बहुत कुछ कर दिखलाऊँगी ! लेने दो खुली हवा में सांसे बेटे से ज्यादा फर्ज निभाऊंगी... Read more
मेरी नदियां
मेरा समंदर जब सिमट जाता है खुद मे तो कई नदियों को अपने ही घर मे तीर्थ खोजना पड़ता है मेरे बेचैन ख्यालों को उनका... Read more
बेटी का हक़
 बेटी का हक़     कवियों ने बेटी पर कईं कविताएं लिखी    किसी ने बेटी की महिमा किसी ने व्यथा लिखी   मैंने सोचा क्या... Read more