Skip to content

मेरा स्थानांतरण

rekha rani

rekha rani

गीत

February 1, 2017

मन मे लागी है लगन फिर खिलाना है चमन।
मन तू होना न उदास मन कल तो न कभी होगा तेरा अपना ।
बिता कल तू दे भुला जैसे मीठा सपना।
मधु स्वप्न की स्मरति रखना पास सदा।
इन मधु यादों से महकाना है चमन।
मन मे….
बहते झरने की तरह मस्त लहरों की तरह
तूफां आँधी से न डर बढ़ तू आगे की तरफ मंजिल ढूंढ़ लेंगे कदम
मन मे….
फूल वो भी थे सजे फूल हैं यहां भी खिले
छूटे पीछे जो सुमन दिल से उनको दे दुआ
महके खुश होके सदा रहे आबाद चमन।
मन मे …
मीत पुस्तकें हैं तेरी छात्र मंजिल का पता।
चाक सरगम तू समझ लेखनी से गीत सजा।
आज कर रेखा मनन फिर खिलाना है चमन।
रेखा रानी

Share this:
Author
rekha rani
मैं रेखा रानी एक शिक्षिका हूँ। मै उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ1 मे अपने ब्लॉक में मंत्री भी हूँ। मेरे दो प्यारे फूल (बच्चे) ,एक बाग़वान् अर्थात मेरे पति जो प्रतिपल मेरे साथ रहते हैं। मेरा शौक कविताये ,भजन,लेखन ,गायन,... Read more
Recommended for you