.
Skip to content

मेरा सिद्धांत

अमरेश गौतम

अमरेश गौतम

मुक्तक

December 14, 2016

आदर्श मेरा वो नहीं, जो शीर्ष पर आसीन हो,
और अपने कर्म से, निष्कृय हो, उदासीन हो।
आदर्श मेरा निम्न स्तर का बशर होगा अगर,
कर्तव्य निष्ठा हो जिसे, निज स्वार्थ से विहीन हो।

Author
अमरेश गौतम
कवि/पात्रोपाधि अभियन्ता
Recommended Posts
***  मेरा  ***
ख़्वाहिश थी तेरी या फिर सिर फिरा था मेरा बज़्म में आकर अक्सर नाम लेते थे जो मेरा मैं अक्सर तुम्हें समझ बैठा था जो... Read more
मेरा वतन
मेरा वतन गा रहा जयगाथा जन गण और वंदेमातरम,मेरा वतन। छा रहा नव आसमां पर, अनवरत अभिराम,मेरा वतन। रहे ओजस्वी सदा,बनें अस्मिता का प्रतिमान,मेरा वतन।... Read more
* वक़्त बदलेगा मेरा भी *
सबका वक़्त बदलता है ! एक दिन वक़्त बदलेगा मेरा भी !! आज चाहे वक़्त जैसा भी हो ! कल वक़्त बदलेगा मेरा भी !!... Read more
देना सदा साथ मेरा/मंदीप
देना सदा साथ मेरा..../मंदीप देना सदा साथ मेरा, पकड़े रहना सदा हाथ मेरा। प्यार के दीये से, रोशन करते रहना दिल मेरा। घिर कभी जाओ... Read more