Skip to content

*मेरा यार*

Prashant Sharma

Prashant Sharma

गज़ल/गीतिका

August 6, 2017

*मेरा यार*

मेरा यार बड़ा ही सादा है दिल कहता है मुझसे
उससे मिलने का इरादा है दिल कहता है मुझसे।

कटती जिंदगी में हर वक्त जिसका सहारा मिला
उसका हर पक्का वादा है दिल कहता है मुझसे।

निराला सा जीवन अलग शान है उसकी
हर बात मुझसे ज्यादा है दिल कहता है मुझसे।

निभाता नेह से रिश्तो की लडियो को हरपल
दिल का वह शहजादा है दिल कहता है मुझसे।

मेरी नादानियां नजरअंदाज करता रहा हरदम
मेरे लिए आज भीआमादा है दिल कहता है मुझसे

प्रशांत शर्मा “सरल”
नेहरू वार्ड नरसिंहपुर
मो 9009594797

Recommended
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
क्यू नही!
रो कर मुश्कुराते क्यू नही रूठ कर मनाते क्यू नही अपनों को रिझाते क्यू नही प्यार से सँवरते क्यू नही देख कर शर्माते क्यू नही... Read more
Author
Prashant Sharma