मेरा जन्मदिन

मेरा जन्मदिन

दिन बीते, साल गुज़रे कारवां यूं ही चलता गया ।
कभी बचपन में थे , आज बुढ़ापा आगे दिख है रहा ।
सामना हो रहा है धीरे – धीरे , हौले – हौले कुछ ऐसे।
दिल में बेचैनी बनी रहती है … थोड़ी – थोड़ी जैसे ।

वो लम्हा आज भी दिल को हिला देता है ।
जन्मदिन था मेरा और मां की सजी थी शैय्या ।
न आंसू थे नयनों में, न थे शब्द मुख पे
कलम थी कर में…अंधकार घना था घर में ।

दो दशक बीते छम से आज धुंधली हैं वो सारी यादें ।
मां की कमी की कसक…वो उसकी प्यारी बातें ।
जिंदा हैं इस दिल के कोने में कहीं चुपके से
बात करती हैं जो मुझसे रात – रात भर आ के ।

उन्हीं बातों से हैं शब्द मुझको मिल जाते ।
कलम उठ जाती पल में लव्ज़ बयां हो जाते ।
मां की यादों की डोरी से बंधा दिल मुझको
दे जाता है आज भी हर पल, हर खुशी मुझको ।।

Like 1 Comment 2
Views 6

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share