.
Skip to content

### मेरा कवि मन कहता है……

दिनेश एल०

दिनेश एल० "जैहिंद"

गीत

June 18, 2017

#### मेरा कवि मन कहता है….

@ दिनेश एल० “जैहिंद”

किसी मजलूम की आवाज़ बनकर
उसकी आवाज़ दूर-दूर पहुँचाऊँ ।
किसी लाचार, बेबस, पीड़िता का
बनकर मैं मसीहा हक़ दिलवाऊँ ।
मेरा मन अब तरसता है……
मेरा कवि मन कहता है……

किसी असहाय कृषक का बनकर
सहारा उसकी खुशियाँ लौटाऊँ ।
किसी अनाथ को सहारा मैं देकर
उसका मददगार अब बन जाऊँ ।
मेरा ईमान ये कहता है……
मेरा कवि मन कहता है …..

इन गीत-ओ-ग़ज़लों में मैं अब तो
उनकी पीड़ा समाज को दिखाऊँ ।
उनके ही दुख-ओ-दर्द की कहानी
बनाकर मैं सरकार को बतलाऊँ ।
मेरा ज़मीर ये कहता है……
मेरा कवि मन कहता है……

जो मजबूर, बेसहारा और बीमार हैं
उन दीन-हीनों की आवाज़ हो जाऊँ ।
जो कमज़ोर, नि:सहाय, दीनदुखी हैं
उनकी खुशियों का अंदाज़ हो जाऊँ ।
मेरा रोम-रोम कहता है…….
मेरा कवि मन कहता है…….
मेरा कवि मन कहता है…….

===============
दिनेश एल० “जैहिंद”
08. 06. 2017

Author
दिनेश एल०
मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का... Read more
Recommended Posts
"तु मेरा भगवान मैं तुझको नमन करूँ "(गीत) तु हैं मेरी शान मैं तुझको नमन करूँ। तु ही मेरा मान मैं तुझको नमन करूँ। ख्वाबों... Read more
मेरा साया
???? खामोश एहसासों में एक धुंधला सा चेहरा उभरता है। तू जिन्दगी है मेरी, आके हाउले से मेरी कानों में कहता है। उसकी एक छुअन... Read more
*मेरा यार*
*मेरा यार* मेरा यार बड़ा ही सादा है दिल कहता है मुझसे उससे मिलने का इरादा है दिल कहता है मुझसे। कटती जिंदगी में हर... Read more
ग़ज़ल( उम्र भर जिसको अपना मैं कहता रहा)
आँख से अब नहीं दिख रहा है जहाँ ,आज क्या हो रहा है मेरे संग यहाँ माँ का रोना नहीं अब मैं सुन पा रहा... Read more