.
Skip to content

मेरा अस्तित्व

Sumita R Mundhra

Sumita R Mundhra

कविता

January 5, 2017

मेरा अस्तित्व
कोई बात हो मुझमें भी ऐसी स्वयं पर मैं अभिमान करूँ ।
अपना अस्तित्व बनाने हेतू अपने जीवन का दान करूँ ।।
अपने सपनों को सच करने संघर्ष अब दिन – रात करूँ ।
गर्वित हो मुझ पर भी ये दुनिया ईश से मैं अजान करूँ ।।
-सौ.सुमिता राजकुमार मूंधड़ा
– sumita R Mundhra

Sumitamundhra@gmail.com
(7798955888)

Author
Sumita R Mundhra
मैं बड़ी लेखिका-कवियत्री नहीं हूँ । बचपन से ही शौक से लिखती हूँ । लंबे अंतराल के बाद हमसफ़र राज और पुत्र रिषभ के प्रेरित करने पर मेरी कलम फिर से शब्दों को पिरोने लगी है । मैं अपनी रचना... Read more
Recommended Posts
"तु मेरा भगवान मैं तुझको नमन करूँ "(गीत) तु हैं मेरी शान मैं तुझको नमन करूँ। तु ही मेरा मान मैं तुझको नमन करूँ। ख्वाबों... Read more
ग़ज़ल - यूँ मरने का इरादा
यूं मरने का इरादा क्यों करुँ मैं तिरी हसरत ज़ियादा क्यों करूँ मैं हैं मेरी लरजिशें अंदाज़ मेरा यूं अहदे तर्के बादा क्यों करूँ मैं... Read more
कन्या दान
पढ़ा लिखा कर बड़ा किया है ,मैं इस पर अभिमान करूँ । नहीँ मानता हूँ कोई अंतर , इसीलिये सम्मान करूँ ॥ वस्तु नहीँ है... Read more
प्रार्थना
???प्रार्थना??? मैं करूँ ये प्रार्थना माँ,राह मेरी से मिला दो इस धरा के कण्टकों में,फूल सा रहना सिखा दो मैं करूँ ये प्रार्थना..... हो रही... Read more