.
Skip to content

मेघ,,,, कुछ हाइकु

दिनेश एल०

दिनेश एल० "जैहिंद"

हाइकु

July 10, 2017

₹जैहिंद के हाइकु

सुनाई नानी
कल रात कहानी
बरखा रानी ।

मेघ गरजा
जीवों का मन हर्षा
आई बरसा ।

बादल दानी
चली पूर्वा सुहानी
आशाएँ जागीं ।

ठुमके मोर
बच्चे मचाएँ शोर
गिनूँ मैं पोर ।

झींगुर-बोल
दादुर पीटे ढोल
हो गई भोर ।

घन तड़के
लो बारिश टपके
तन तरसे ।

=== मौलिक ====
दिनेश एल० “जैहिंद”
08. 07. 2017

Author
दिनेश एल०
मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का... Read more
Recommended Posts
≈≈≈ जैहिंद के हाइकु ≈≈≈
जैहिंद के हाइकु // दिनेश एल० “जैहिंद” अब हाइकु करता सम्मोहित आते हैं स्वप्न ! लिखे हाइकु कविगण काइकु हैं आकर्षित ! देखा ना मैंने... Read more
बूंदें
हाइकु मेघ/बूंदें मेघ हैं छाये घनघोर घटाएं बूंदें बरसीं। काले नयना हैं बूंदें बरसाते अरमानों की। लेकर आया रिमझिम सीं बूंदें मेघ श्यामल। पीलीं धरा... Read more
हवा: पाँच हाइकु
हवा: पाँच हाइकु // दिनेश एल० “जैहिंद” क्षिति, पावक, जल, नभ, समीरा लोक मिश्रण । पाकर वायु बढ़ती जंतु आयु है हवा प्राण । द्रव... Read more
उम्मीद: सात हाइकु
उम्मीद: सात हाइकु // दिनेश एल० “जैहिंद” आशा आशय मनसा प्राकृतिक जग ऐच्छिक । ×××××××× कर्म है आज कामना है कल कोख भविष्य । ×××××××××... Read more