मेघा

घिर – घिर आये मेघा चमके , बदरी में बिजुरी .
चंचल पवन उड़ाये रही – रही , गॊरी की चुनरी .
मेघा आये – दरस दिखाये , बिन बरसे चल जाये .
बादल उमड़ – घुमड़ कर गरजे , जानें क्या कह जाये .
किसानों से आँखमिचौली , खेले क्यों बदरी .
चंचल पवन उड़ाये रही – रही , गॊरी की चुनरी .
हरी – हरी चूड़ियाँ हाथ में मेहन्दी ,धानी चुनरिया .
नीम की डाली -झुला डाली , झूले संग सखिया .
झूले -झुलावे मिल कर गावे , सावन में कजरी .
चंचल पवन उड़ाये रही – रही , गॊरी की चुनरी .
मेघा बरसो पर ना बरसो , बाढ़ ही आ जाये .
दिन – दुखियों पर रहम करो , कहीं गाँव न छूट जाये .
छीजे छज्जा नाहीं टूटे , माटी की बखरी .
चंचल पवन उड़ाये रही – रही , गॊरी की चुनरी .
— सतीश मापतपुरी .

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 10

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share