Feb 1, 2021 · कविता
Reading time: 1 minute

मुहब्बत के वह ख़त

इश्क़ की जिसमें पहली हवाएं लिखी थी
प्रेम में सारी अपनी भावनाएं लिखी थी
शब्द जिसमें प्रेम के, आज भी देते दस्तक
आज फिर पढ़ रहा,मुहब्बत के वह खत।

जिसको लिखा था रातभर हमने जग के
बात थी हर लिखी ,जो आये थे लब पे
जिसमें आज भी है, मेरे अश्क़ों के दस्खत
आज फिर पढ़ रहा,मुहब्बत के वह खत

ख्वाब को हर लिखा, राज को हर लिखा
हर सुबहा लिखा,सांझ को हर लिखा
मगर ना हुई कम,जिसको लिखने की चाहत
आज फिर पढ़ रहा,मुहब्बत के वह खत।

देवेश कुमार पाण्डेय
कुशीनगर ,उत्तर प्रदेश

Votes received: 46
12 Likes · 47 Comments · 377 Views
DEVESH KUMAR PANDEY
DEVESH KUMAR PANDEY
4 Posts · 426 Views
Follow 12 Followers
You may also like: