.
Skip to content

मुहब्बत की बारिश

Govind Kurmi

Govind Kurmi

कविता

December 24, 2016

जिस बारिश के लिये हम कब से तरस रहे हैं ।

मुहब्बत के वो बादल हर दिल पर बरस रहे हैं ।

घूम फिर कर हमारी नजरें जिन पर अटक रहीं हैं ।

किसी ना किसी भंवरे संग वो भी मटक रहीं हैं ।

कई भीगे इस बारिश में तो कई इसमें डूबे हैं ।

हम तो कब से प्यासे इस वीराने में सूखे हैं ।

शायराना अंदाज में जब किसी को इकरार ऐ इश्क सुनाया ।

जबाब मिला बस यही और कितनों पर ये पैंतरा आजमाया ।

कोई तो होगी क्योंकि है यह रब की कारीगरी ।

मिलेगी हमको हमराही जो करेगी हमारी बराबरी ।

हमारे इस वीराने में जब कोई पतझड़ बनकर आयेगी ।

मौसम सारा झूमेगा दिल के हर कोने में हरियाली छायेगी ।

सारी हया की रस्में कसमें तोड़ आयेगी ।

हमारी खातिर वो दुनिया छोड़ आयेगी ।

हमसे मिलने के लिये वो हर दीवारें फाड़ आयेगी ।

कसम से

बारिश तो क्या रेगिस्तान में भी बाढ़ आयेगी ।

Author
Govind Kurmi
गौर के शहर में खबर बन गया हूँ । १लड़की के प्यार में शायर बन गया हूँ ।
Recommended Posts
प्यार का रोग ये लगा कब का
प्यार का रोग ये लगा कब का दर्द बदले में भी मिला कब का जिन्दगी समझा था जिसे अपनी छोड़ वो ही हमें गया कब... Read more
तब हम परेशां थे इस बारिश से.. अब तो रोना है साहब रोना ...... ---------------------- बचपन में जब बारिश का आना कर देता हम बच्चों... Read more
दिल को गिरवी दे रखा है
ख़ुद को धोखा देकर रखेगे , कब तक? उस चाँद को दिल मे हम रखेगे, कब तक? जिसको जाना था, न आयेगे वो चले गए... Read more
भूल गये तुमको .....
भूल गये तुमको, यूँ बातों ही बात में हम इतने भीगे तनहा बारिश,-बरसात में हम ज़ुल्म -सितम क्या जानो, सहना पड़ता जब-तब फिर छोटी कुटिया,फिर... Read more