.
Skip to content

मुहब्बत करके वो डरता रहा है

बबीता अग्रवाल #कँवल

बबीता अग्रवाल #कँवल

गज़ल/गीतिका

November 30, 2016

मुहब्बत करके वो डरता रहा है
सनम का नाम ही जपता रहा है

मिली है क्यों जफ़ा इश्क़ में उसे ही
दिया सा रात भर जलता रहा है

बिताई ज़िन्दगी है मुफलिसी में
नमक का हक़ अदा करता रहा है

जुबाँ से निकले न कोई हर्फ उसके
सितम वो हंस के ही सहता रहा है

खुदा के ही दर पर कर ले दुआ हम
कयामत का कब किसे पता रहा है

मिलन की सनम से जो रुत आई है
दिल कँवल का बस धड़कता रहा है
बबीता अग्रवाल कँवल

Author
बबीता अग्रवाल #कँवल
जन्मस्थान - सिक्किम फिलहाल - सिलीगुड़ी ( पश्चिम बंगाल ) दैनिक पत्रिका, और सांझा काव्य पत्रिका में रचनायें छपती रहती हैं। (तालीम तो हासिल नहीं है पर जो भी लिखती हूँ, दिल से लिखती हूँ)
Recommended Posts
मुहब्बत करके वो डरता रहा है
मुहब्बत करके वो डरता रहा है सनम का नाम ही जपता रहा है मिली है क्यों जफ़ा इश्क़ में उसे ही दिया सा रात भर... Read more
[[ मुहब्बत  में  सनम आँखे  बही  मालूम होती हैं ]]
? मुहब्बत में सनम आँखे बही मालूम होती हैं अँधेरी रात है और चाँदनी मालूम होती हैं मुहब्बत को जमाने से मिटाने फिर चले देखो... Read more
[[  मुहब्बत  में  सनम आँखे  बही  मालूम होती हैं  ]]
? मुहब्बत में सनम आँखे बही मालूम होती हैं ! अँधेरी रात है और चाँदनी मालूम होती हैं !! मुहब्बत को जमाने से मिटाने फिर... Read more
[[ जो डूबा इश्क़ के  दरिया  में  वो दिलबर नही लौटा  ]]
जो डूबा इश्क़ के दरिया में वो दिलबर नही लौटा गया जो डूब इसमें यार , वो अक़्सर नही लौटा बिताये साथ जो लम्हें मुहब्बत... Read more