मुहब्बत इक सज़ा

दिलों का ये मिलन झूठा बहाना है ,
उसे तो खाक़ में मुझको मिलाना है .

कटे पर के परिन्दे को कहे , उड़ जा ,
उसे दो जुगनुओं में अश्क लाना है .

हवा मदमस्त सी बन के उठी आँधी ,
किसी का आशियाँ , उसको गिराना है .

लबों पे बद दुआ , आने न पायेगी ,
अभी तक प्यार का , दिल में ठिकाना है .

यहाँ पर रौशनी कैसे चली आई,
चरागों को बुझे बीता ज़माना है .

तुम्हारा दर्द दौलत है ‘अना’ मेरी ,
सिले लब खींच के ,अब मुस्कुराना है .

अनीता मेहता ‘अना’

Like Comment 0
Views 13

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share