कवि /मुस्कुराहट लिख दे, निद्रित प्राण पर

कवि वही जो चलता सत् किरपान पर |
प्रेम वन छा जाए द्वंदी बाण पर |
जागरण दे राष्ट्र को ‘नायक बृजेश ‘|
मुस्कुराहट लिख दे, निद्रित प्राण पर |

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता|

Like 2 Comment 1
Views 109

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing