31.5k Members 51.9k Posts

मुस्कुराना

Jul 29, 2016 10:20 PM

तेरा ये रूठ कर मुस्कुराना
आँखों ही आँखों में कुछ कहना
मुझ नासमझ के समझ से पार है
बस हम तो इतना समझे
मामला या तो आर है
या पार है***

– दिनेश शर्मा

36 Views
Dinesh Sharma
Dinesh Sharma
44 Posts · 3.7k Views
सब रस लेखनी*** जब मन चाहा कुछ लिख देते है, रह जाती है कमियाँ नजरअंदाज...
You may also like: