*"मुस्कान"*

मुस्कान को अधरों पे सजाया है इस कदर की उदासी भी कहने लगी !
चाहत हमारी भी कर लो थोड़ी हमें तेरी मुस्कान से जलन होने लगी !!
जब महसूस किया उदासी को तो दिल भर आया आँखे रोने लगी !
मुस्कान निकली सच्ची दोस्त आँसू के साये में भी अधरों पे छाने लगी !!

5 Likes · 2 Comments · 621 Views
*Writer* & *Wellness Coach* ---------------------------------------------------- मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी...
You may also like: