23.7k Members 49.8k Posts

मुस्कान की स्याही

हवा के हर खामोश ज़र्रे में आहट होती है,
कुछ खामोश बेपरवाह चाहत में भी बात होती है,
जिंदगी के कोरे पननें मुस्कान सी स्याही की पहल करते हैं,,
क्योंकि हर अँधेरे को रौशनी की दरकार होती हैं

Like Comment 0
Views 17

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
ruchi khaskalam
ruchi khaskalam
3 Posts · 42 Views