.
Skip to content

” मुस्कराया है गगन भी ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

गीत

May 19, 2017

बन्धनों में ,
हूँ बंधी सी !
खुशबूओं से ,
हूँ लदी सी !
अनुबन्ध रंगीले हुए हैं –
खिलखिलाया है चमन भी !!

ताने बाने ,
बुन रखे हैं !
प्यारे प्यारे ,
रंग सजे हैं !
साकार सी अब कल्पनाएं –
आ भी जाओ है लगन सी !!

प्रश्न बहुतेरे ,
मुखर हैं !
अपनों से ही ,
अब तो डर है !
हाथ थामा छोड़ना ना –
हो गयी मैं तो मगन सी !!

नज़रें हुई ,
बेताब सी !
फीकी हुई ,
मुस्कान भी !
वादे से तेरा यों मुकरना –
प्यार में भी है ठगन सी !!

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
इंसानियत इंसान से पैदा होती है !
एक बूंद हूँ ! बरसात की ! मोती बनना मेरी शोहरत ! गर मिल जाए, किसी सीपी का खुला मुख, मनका भी हूँ... धागा भी... Read more
मुक्तक
होते ही शाम तेरी प्यास चली आती है! मेरे ख्यालों में बदहवास चली आती है! उस वक्त टकराता हूँ गम की दीवारों से, जब भी... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more