.
Skip to content

मुश्किलों को नाकाम करना..

शालिनी साहू

शालिनी साहू

गज़ल/गीतिका

April 19, 2017

हर पहलू पर काम करना
परेशानियों को हमेशा नाकाम करना
.
मिल जाये गर समन्दर में मोती
अपनी हसरतों को दिल से सलाम करना!
.
संघर्ष की दुनियाँ है परेशान मत होना
मुश्किलों को अपनी सरेआम न करना!
.
निर्भयता से कदम बढ़ाते रहना सदैव
हर किसी को ये खत-पैगाम करना!
.
चाहता हूँ “शालू”रुकूँ नहीं सफर में
सजदे की हर दुवा मेरेे नाम करना!
.
शालिनी साहू
ऊँचाहार, रायबरेली(उ0प्र0)

Author
Recommended Posts
बेटी
#बेटी बेटी है तो ही कल है.. वह जीवन का हर पल है, वही संस्कार है, वही धर्म है, वह जीवन का हर सृजन है..... Read more
बेवफ़ा है ज़िन्दगी और मौत पर इल्ज़ाम है
बेवफ़ा है ज़िन्दगी और मौत पर इल्ज़ाम है मौत तो इस ज़िन्दगी का आखिरी आराम है लोग जाने क्यों भटकते हैं खुदा की ख़ोज में... Read more
ग़ज़ल :-- बंदिश ये रंजिश औ नाकाम से डर जाते हैं ॥
गज़ल :-- बंदिश ये रंजिश औ नाकाम से डर जाते हैं ॥ बहर :-- 2212--2212--212--2212 बंदिश ये रंजिश और नाकाम से डर जाते हैं ।... Read more
अंदाज़ अपना अपना
हर कोई समझता है ये राज़ अपना अपना सबका ही अलहदा है अंदाज़ अपना अपना कितना ही सितमग़र हो ख़ाविन्द किसी का भी होता है... Read more