.
Skip to content

मुल्क़ आज़ाद चाहता हूँ

Pritam Rathaur

Pritam Rathaur

गज़ल/गीतिका

April 20, 2017

वज़्न
2122– 1212– 22( 112)
—————————
आज रब —से ये मांगता हूँ मैं
मुल्क़ आज़ाद चाहता हूँ मैं

बात सच्ची ——ये बोलता हूँ मैं
तेरे ———-बारे में सोचता हूँ मैं

प्यार अख़लाक़ —-जिंदगी मेरी
नफ़रतों ——से तो भागता हूँ मैं

चार सूं अम्न —–की इबादत हो
ख़ाब दिल —-मे ये पालता हूँ मैं

हसरतों के —–शज़र सभी सूखे
अब तो कांटें ——-बटोरता हूँ मैं

ढूँढ पाऊं न—– जिंदगी के हल
क्या ख़यालों –से खोख़ला हूँ मैं

खो गईं जो —–बहार गुलशन से
आज सहरा —–में खोजता हूँ मैं

कोशिशें कर न तू मिटाने की
देख ले एक आइना हूँ मैं

ग़म की आतिश मुझे जलाती है
राह बारिश की देखता हूँ मैं

कोई तो मुझको ढूंढ़ कर लाओ
एक मुद्दत से गुमशुदा हूँ मैं

एक दिन देश की करूं ख़िदमत
ख़ाब दिल में ये पालता हूँ मैं

तोड़ मत देना तुम कभी “प्रीतम”
एक नाजुक सा आइना हूँ मैं

Author
Pritam Rathaur
मैं रामस्वरूप राठौर "प्रीतम" S/o श्री हरीराम निवासी मो०- तिलकनगर पो०- भिनगा जनपद-श्रावस्ती। गीत कविता ग़ज़ल आदि का लेखक । मुख्य कार्य :- Direction, management & Princpalship of जय गुरूदेव आरती विद्या मन्दिर रेहली । मानव धर्म सर्वोच्च धर्म है... Read more
Recommended Posts
"मैं प्रेम हूँ" प्रेम से भरा है मेरा हृदय, प्रेम करता हूँ, प्रेम लिखता हूँ, प्रेम ही जीता हूँ, मुझसे नफरत करो, मेरा क्या, मुझे... Read more
मैं शक्ति हूँ
" मैं शक्ति हूँ " """""""""""" मैं दुर्गा हूँ , मैं काली हूँ ! मैं ममता की रखवाली हूँ !! मैं पन्ना हूँ ! मैं... Read more
मैं इश्क करने आया हूँ ।
Govind Kurmi शेर Dec 8, 2016
इसारा कर ऐ जिंदगी, मैं कुर्बान होने आया हूँ । नफरत भरे दिल में, वफ़ा का तोहफ़ा लाया हूँ । भुला सके तो भुला मुझे,... Read more
गले का हार होना चाहता हूँ
गले का हार होना चाहता हूँ मैं उसका प्यार होना चाहता हूँ सुना है सोच में तब्दीलियाँ हैं मिज़ाजे-यार होना चाहता हूँ उसे दुन्यावी चीज़ों... Read more