.
Skip to content

मुर्दे की पहचान….

CM Sharma

CM Sharma

कविता

February 3, 2017

ज़िंदा रहा होगा इंसान कभी…
जिसकी लाश काँधे पे उठा शमशान जा रहे थे सभी…
घर वाले…रिश्तेदार…दोस्त…साथ थे सभी….
उनमें से किसी के साथ…
मरने वाले का बचपन से ही नाता रहा होगा…
पर आज वो प्राण जाने के बाद…
सिर्फ एक लाश है…मुर्दा…
और मुर्दे को साथ रखने की इजाज़त नहीं है….
कानूनन…सामाजिक…धार्मिक….हर तरह से…
घर में रहने की इजाज़त नहीं है….

मुर्दा या लाश उसी को कहते हैं…
जिसमें अब कोई हलचल नहीं हो सकती…
मतलब कोई भाव नहीं….न दुःख के न सुख के…
उसको कुछ फर्क नहीं पड़ता…
कोई क्या कर रहा…जी रहा या मर रहा…
यही है मुर्दे की पहचान….

फिर जो सरेआम किसी को बीच चौराहे पे…
मार देता है…किसी की इज्जत तार तार कर देता है…
जो जन्म से पहले ही किसी बच्ची को क़त्ल कर देता है…
मारने वाला..साथ देने वाला…और देख कर पत्थर बनने वाला…
किसी में भाव नहीं उठता…क्या हैं वो…
मुर्दा हैं तो उनके साथ मुर्दों जैसा सलूक क्यूँ नहीं….
क्यूँ मुर्दे की पहचान सिर्फ प्राण जाने से है….
क्यूँ…..

2.

ढो रहे थे काँधे पे रो रहे थे सभी….
लाश उसकी ज़िंदा रहा था जो कभी…
थे संगी सखा कुछ बचपन के..
रिश्ते में…घर के लोग..रो रहे सभी…

प्राण गए तो मर गया ज़िंदा था जो अभी अभी…
ज़िंदा था तो रिश्ता था मुर्दा है तो कुछ नहीं…
है मुर्दे की पहचान यही भाव जिसमें नहीं कोई…
घर…समाज…धर्म…क़ानून सब पराये हो जाते हैं…
घर में रहने की इजाज़त नहीं…शमशान ले जाते हैं…

मुर्दे की है पहचान यही….
ज़िंदा हैं तो भाव हैं…मर गया कोई सुख दुःख नहीं…
मुर्दे की पहचान यही….

बीच चौराहे पे हुआ क़त्ल सब ने देखा पर नहीं असर…
कोख में बच्ची क़त्ल, दिल किसी में रहम नहीं…
तार तार हुई अस्मत, दिन दहाड़े एक नारी की…
चीत्कार सुनी अनसुनी रही दिल में दर्द की कमी रही…
पत्थर दिल बन रह गए सभी, आँखों में थी नमी नहीं…
शमशान बना है जब सारा शहर जिसमें मुर्दों की कमी नहीं…
फिर क्यूँ मुर्दा है सिर्फ वही जिसके प्राण बचे नहीं….
क्या मुर्दे की पहचान यही….
\
/सी. एम्. शर्मा

Author
CM Sharma
उठे जो भाव अंतस में समझने की कोशिश करता हूँ... लिखता हूँ कही मन की पर औरों की भी सुनता हूँ.....
Recommended Posts
!~जिन्दा लाश~!
***************** !~जिन्दा लाश~! ***************** "मरी आदमियत संग - लाशें जिन्दा हैं! स्वार्थ जिन्दा है! ज़ज्बात शर्मिंदा है!!"___दुर्गेश वर्मा
****   घबराहट   ***
मेरी पहली कविता *********** मर रहा था मगर डर रहा था मौत से नहीं मै घबराहट से मर रहा था कहने जा रहा था दो... Read more
क्या मुर्दे भी कभी कुछ सोचते हैं
ना मैं कुछ देख सकता हूँ ना सुन सकता हूँ और ना ही मैं कुछ बोल सकता हूँ मैं नहीं जानना चाहता क्या हो रहा... Read more
देश भक्ति ग़ज़ल
221 1222 221 1222 ये खून खराबा अब स्वीकार नहीं होगा गर वार किया तुमने इंकार नहीं होगा ये बंद करो नाटक जो खेल रहे... Read more