लेख · Reading time: 2 minutes

मुमताज़

उस शाम वह अपने पति के साथ फिर मुझे दिखाने आई , वही उदास सा चेहरा अधेड़ उम्र और तमाम लक्षणहीन तकलीफों की फेरहिस्त लिये – यहां दर्द वहां दर्द अजीब सी सनसनाहट , झनझनाहट , जिस्म में आग सी ,बदन दर्द सर दर्द आदि अंत हीन कष्टों की सूची !
इससे पहले भी कई बार वह मुझे इन्हीं तकलीफों के लिए दिखा चुकी थी , लेकिन मैं समझता था कि उसकी परेशानियां कहीं और हैं । इस बार भी मैंने उसे समझा-बुझाकर तसल्ली देते हुए कुछ दवाइयां लिख दीं और चलते समय उससे पूछा
‘ तुम किसी बात से परेशान तो नहीं रहती ? ‘
वह बोली
नहीं मुझे कोई परेशानी नहीं है । फिर मैंने हिचकते हुए उसके पति की तरफ देखते हुए पूंछा कि तुम्हें इनसे तो कोई परेशानी कोई शिकायत नहीं रहती ?
वह मुस्कुराई और बोली
‘ नहीं यह तो मुझे बहुत चाहते हैं , बहुत प्यार करते हैं मुझे खिलाते हैं पिलाते हैं , घुमाते फिराते हैं पिक्चर दिखाते हैं । मुझे डॉक्टर को दिखाने की फीस देते हैं मेरे , लिए दवा खरीदते हैं ।’
फिर मुझे दिखाते हुए बोली
‘ यह देखो यह नया सलवार सूट अभी खरीद के दिया है जो मैं पहन कर आई हूं । ‘
फिर कुछ देर बाद संकोच कर के बोली
‘ हां कभी – कभी मुझे जुतिया देते हैं , जैसे कि कल शाम को ‘
जिस प्रकार लठ से लठियांना , थप्पड़ से थपड़ियाना उसी तर्ज पर जूते से जुतियाये जाने का भेद समझ कर मैंने साथ आये पति पर विवेचनात्मक दृष्टि डाली वह बेशर्मी से तटस्थभाव लिए खड़ा था । उस नारी के विषाल निश्छल मन प्रांगण में चरता उसका पति हिंसक पशु स्वरूप मेरे सामने खड़ा था । घरेलू हिंसा का ये कोई नया मामला मेरे सामने नहीं था ।
मैंने सोचा इसकी कहानी भी कुछ कुछ शाहजहां की मुमताज के जैसी ही है । यह भी सुना था कि हर दिल में एक मुमताज रहती है पर क्या सदियों से वो ऐसे ही प्रताड़ना भोगती हुई रहती चली आ रही है । सुना है शाहजहाँ ने भी उसके चौदहवें बच्चे को जन्म देते समय मुमताज़ की मृत्यु होने जाने के कुछ दिनों के बाद उसकी छोटी बहन के पति को मरवा कर उससे शादी कर ली । इसके बाद भले ही तुम उसकी याद में प्यार के नाम का ताजमहल खड़ा करो और अपने तत्कालीन दरबारी इतिहास कारों से अपनी प्रशंसा करवाओ या वर्तमान में सलवार सूट ला कर दो हर काल में तुम्हारा ये पशुवत व्योहार निंदनीय एवम दण्डनीय रहे गा ।

3 Likes · 4 Comments · 44 Views
Like
You may also like:
Loading...