.
Skip to content

मुझ पे मरती थी जानती हो क्या

बबीता अग्रवाल #कँवल

बबीता अग्रवाल #कँवल

गज़ल/गीतिका

February 3, 2017

इश्क़ था मुझसे मानती हो क्या
मुझ पे मरती थी जानती हो क्या

क्यों भला जाऊँ दूर तुझसे मै
जी न पाऊंगा देखती हो क्या

आजकल क्यों नज़र नहीं आती
तुम बहुत दूर जा चुकी हो क्या

तुमसे मिलने की बेक़रारी हैं
हाल दिल का ये जानती हो क्या

पास आओ जरा देखे तुझको
जान बातों में डालती हो क्या

चाँद शरमा रहा है क्यों तुमसे
इंद्र के देश की परी हो क्या

लग न जाए कहीं नज़र तुझको
चाँदनी तुम बिखेरती हो क्या

रात में नींद क्यों नहीं आती
मेरी आँखों में तुम बसी हो क्या

मक़्ता –
खूबसूरत कँवल बहुत हो तुम
इक मुकम्मल गज़ल बनी हो क्या

बबीता अग्रवाल #कँवल

Author
बबीता अग्रवाल #कँवल
जन्मस्थान - सिक्किम फिलहाल - सिलीगुड़ी ( पश्चिम बंगाल ) दैनिक पत्रिका, और सांझा काव्य पत्रिका में रचनायें छपती रहती हैं। (तालीम तो हासिल नहीं है पर जो भी लिखती हूँ, दिल से लिखती हूँ)
Recommended Posts
** तुम वफ़ा क्या जानो **
6.5.17 ***** रात्रि 11.11 तुम वफ़ा क्या जानो तुम जफ़ा क्या जानो क्यों कोई तुमसे ख़फा हो तुम क्या जानो ख़ार है या प्यार है... Read more
मुझे तुमसे या दुनियां से गिला क्या ---- गज़ल -निर्मला कपिला
मुझे तुमसे या दुनियां से गिला क्या मिली तकदीर से हम्को सजा क्या बेटियां मां बाप से जब दूर जातीं बिना उनके जिगर मे टूटता... Read more
कुछ  रोज़ का बहकना है और  दवा  क्या है
कुछ रोज़ का बहकना है और दवा क्या है बीमार- ए- इश्क़ बता तेरा मशवरा क्या है ग़लत बयानियाँ तिरी कहानी ख़त्म कर गईं हम... Read more
बिछड़ी है आसमां से पलक पर झुकी है क्या आँखों   में   अश्कबार    घटा   ढूँढती है क्या
बिछड़ी है आसमां से पलक पर झुकी है क्या आँखों में अश्कबार घटा ढूँढती है क्या ----------------------------------------------------- ग़ज़ल क़ाफ़िया- ई (स्वर), रदीफ़- है क्या वज़्न-221... Read more