.
Skip to content

मुझे रंग दे तू …………………डाल के |गीत | “मनोज कुमार”

मनोज कुमार

मनोज कुमार

गीत

March 11, 2017

मुझे रंग दे तू रंग दे ओ लाल
क हर्बल गुलाल डाल के……………………………..२
तुझे रंग दूँ में रंग दूँ ओ लाल
क हर्बल गुलाल डाल के……………………………..२

आओ नफरत को दूर करें
गले यारों के दिल से मिले
क गिले शिकवे सब भूल के
खुशिओं के रंग घोल घोल के
ओ मीठी बोली बोल बोल के

मुझे रंग दे …………डाल के………….२

मुँह भी गुलाबी हो गईं आँखें गुलाबी
हम भी शराबी हो गये वो भी शराबी
मौसम रंगीन हुआ अम्बर सतरंगी
रंगों में रंग घोल घोल के
सपनों के रंग छोड़ छोड़ के

मुझे रंग दे …………डाल के………….२

अंगिया भिगो दी तूने भीगी चुनरिया
कलियाँ मरोड़ी मोरी चमकी कमरिया
मैं नाचूँ मन नाचे नाचे संवरिया
ओ प्रेम के रंग घोल घोल के
रिश्तों के तार जोड़ जोड़ के

मुझे रंग दे …………डाल के………….२

“सभी मित्रों को होली की हार्दिक शुभकामनायें”

“मनोज कुमार”

Author
मनोज कुमार
नाम - मनोज कुमार , जन्म स्थान - बुलंदशहर , उत्तर प्रदेश (भारत) , शिक्षा - एम. एस. सी. ( गणित ) , शिक्षा शास्त्र , EMAIL - MPVERMA85@YAHOO.IN https://manojlyricist.blogspot.in/
Recommended Posts
@@@ रंग @@@
[[[[ रंग ]]]] वाह ! रंग भी क्या शब्द है, क्या भाव है, क्या अर्थ है || बिना इस रंग के संसार में भूमि-नभ-जीवन व्यर्थ... Read more
सप्त रंगो की चुनर
sunil nagar गीत Nov 8, 2017
एक गीत सादर प्रस्तुत इन्द्रधनुष के सप्त रंगो से चुनर को रंग दूंगा , लाल, गुलाबी, नीला, पीला, बैंगनी रंग, रंग दूंगा । अम्बर से... Read more
इस होली रंग लो मुझे, साजन अपने रंग
खुशियाँ लेकर आ गया, होली का त्यौहार गाल रंगे गुलाल से, रंगों की बौछार टेसू, सेमल खिल उठे, बजे बसन्ती राग मस्ती, रंग, गुलाल से,... Read more
बुझे हुए हैं दीए तमाम मुनव्वर कर दे..............
बुझे हुए हैं दीए तमाम मुनव्वर कर दे हसरतों को मोहब्बत का समंदर कर दे रंग-ओ-खुश्बू को मेरा हमसफ़र कर दे ज़िंदगी को अपनी याद... Read more