मुझे देखिए चलता ही जा रहा हूँ!!

मुझे देखिए चलता ही जा रहा हूँ,
ग़मों को समूल मिटाता ही जा रहा हूँ |
हसरत लिए दिल सदा जीतने की,
मोहब्बत से नफ़रत हटाता जा रहा हूँ ||१||

मुझे देखते थे जो दुश्मन की भाँति,
उन्हीं के दिलों में समाता जा रहा हूँ |
दुर्गम थी राहें जानिब ए मंजिल,
सुगम फूल-ही-फूल बिछाता जा रहा हूँ ||२||

मुश्किल बहुत ही बदलना किसी को,
औरों की तरह बदलता जा रहा हूँ |
राहों का रोढ़ा न बन जाऊँ कोई,
खुद को ही खुद से परखता जा रहा हूँ ||३||

पतझड़ सी बिखरी हुई ज़िन्दगी में,
पलाशों की भाँति दहकता जा रहा हूँ|
बेजान पत्थर नाखुश दिलों में,
खुशियाँ “मयंक” तलाशता जा रहा हूँ ||४||

1 Like · 5 Views
'पर्यावरण बचाओ' हरी-भरी हो धरा हमारी, सृष्टि सुन्दर बने हमारी स्वस्थ, स्वच्छ और मनमोहक हो,...
You may also like: