Jun 10, 2021 · कविता
Reading time: 1 minute

मुझे कुछ कहना है..

मुझे कुछ कहना है,
अपने अस्तित्व
अपने वर्तमान
अपने भविष्य
ख़ुद को जिंदा भी रखना है ।

आपका तिरस्कार
आपका अपमान
आपका भेदभाव
आपका अन्याय
मुझे नहीं अब सहना है ।

आपके साथ हैं
आपके लोग
आपका धर्म
आपका सिस्टम
आपकी सरकार
मुझे नहीं अकेले रहना है ।

आप हर समय
सच्चे हो
अच्छे हो
ईमानदार और
देशभक्त भी हो
मुझे भी देशभक्त रहना है ।

अन्त आपने कर दिया
लोकतंत्र का
न्यायपालिका का
कार्यपालिका का
व्यवस्थापिका का
संवैधानिक व्यवस्था से डरना है ।

चारों ओर फैली हुई
बेरोजगारी
भुखमरी
लाचारी
बेबसी सी
अंधेरी दुनिया में नहीं रहना है ।

🖌️🖌️🖌️🖍️🖍️🖌️🖌️🖌️
*आर एस आघात*
अलीगढ़, उत्तर प्रदेश

2 Likes · 13 Views
Copy link to share
आर एस आघात
110 Posts · 4.7k Views
Follow 7 Followers
मैं आर एस आघात सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक में सहायक प्रबन्धक के पद पर कार्यरत... View full profile
You may also like: