मुझे इतिहास लिखना है

चलते-चलते

तेरे और मेरे हुनर में फर्क बहुत है ऐ मेरे
दोस्त,
तुझे इतिहास पढ़ना है और मुझे इतिहास लिखना है।
कवि अभिषेक पाण्डेय

1 Like · 14 Views
You may also like: