Skip to content

मुझसे रु-ब-रु तो हो

अजय कुमार मिश्र

अजय कुमार मिश्र

गज़ल/गीतिका

January 21, 2017

आए हो मुझसे मिलने तुम मुद्दतों के बाद
दे सकते क्या वक़्त का सौग़ात भी नहीं/

आते ही तुम क्यूँ कह रहे जाने को तो ही
अभी तो हुई है बात की शुरुआत भी नहीं/

थोड़ी देर पास ठहर मुझसे रु-ब-रु तो हो
अभी तो हुई है पूरी ही मुलाक़ात भी नहीं/

बैठे हो मेरे सामने मगर ख़ुद से उलझे हो
करते हो तुम क्यूँ कोई सवालात भी नहीं/

आकर मेरे क़रीब तुम फिर दूर जाते हो
समझते हो तुम क्यूँ मेरी जज़्बात भी नहीं/

छोड़ा है जबसे तूने मुझे बिखरा सा ही हूँ
क्या तुम देख रहे हो मेरे हालात भी नहीं/

रूह में समा मेरे ही क्यूँ इतना दूर हो गए
रखते हो अब तो कोई ताल्लुक़ात भी नहीं/

थम जाते लम्हात तो इस इश्क़ के मर्ज़ में
कटती तो अब मेरी ग़म-ए-रात भी नहीं/

तपता हूँ दिन रात ही विरहा की आँच में
आती है अब तो क्यूँ ये बरसात भी नहीं/

चलता नहीं किसी का दिल पर कोई ज़ोर
रोक सकता तो इश्क़ को ऐहतियात भी नहीं/

अब तो इस उलझन से ही कैसे बचें अजय
बचा सकता अब तो कोई करामात भी नहीं/

Share this:
Author
अजय कुमार मिश्र
रचना क्षेत्र में मेरा पदार्पण अपनी सृजनात्मक क्षमताओं को निखारने के उद्देश्य से हुआ। लेकिन एक लेखक का जुड़ाव जब तक पाठकों से नहीं होगा , तब तक रचना अर्थवान नहीं हो सकती।यहीं से मेरा रचना क्रम स्वयं से संवाद... Read more
Recommended for you