.
Skip to content

मुझसे बिछड़ के आप ज़रा ग़मज़दा न थे

नीलोफ़र नूर

नीलोफ़र नूर

गज़ल/गीतिका

August 28, 2016

पलकों पे अश्क लब पे भी हर्फ़-ए-दुआ न थे
मुझसे बिछड़ के आप ज़रा ग़मज़दा न थे

मेरी तरह से टूट के बिखरे तो थे मगर
मेरी तरह सिमट के भी सिमटे ज़रा न थे

बेसूद था लिपटना भी दामन से आपके
जब आँख में हम आपकी आंसू नुमा न थे

मैने कभी सफ़र वो गवारा नहीं किया
जिन रास्तों में फूल थे काँटे ज़रा न थे

उसने ये कह के आज मेरे ख़त जला दिये
दिलसोज़ तो बहुत थे मगर ख़ुशनुमा न थे

Author
नीलोफ़र नूर
नाम :-आसमा परवीन तखल्लुस:- नीलोफर नूर पता:- ई.एच 20 प्रीत विहार दिल्ली रोड हापुड यौमे पैदाइश:-28/02/1976 उस्ताद मौहतरम:- मनोज बेताब साहब
Recommended Posts
आ गया है साल देखो फिर नया..... कर दुआऐं, मुस्कुराओ तुम ज़रा
****************************** आप सभी को नववर्ष की अनन्त शुभकामनाएं ****************************** आहटें अपनी सुनाओ तुम ज़रा इक झलक अपनी दिखाओ तुम ज़रा मुद्दतों से दूर कितने हो... Read more
गजल
इस सरबती बदन को जरा दिखा दे मेरे तन मन मे जरा आग लगा दे मैं साथी उस मेहखाने में क्यो जाऊँ तुम मुझे यही... Read more
वो सनम बता दो क्यों खफ़ा हो मुझसे//गीत
वो सनम बता दो क्यों खफ़ा हो मुझसे मेरी जान जा रही है मिलने आजा मुझसे तुझे चाहेंगे हद से ज्यादा रब की है कसम... Read more
***आशा ***
फिज़ाओं में खुशबुएं भी हैं घुली घुली, केवल जहर ही नहीं हवाओं की उड़न में। आओ छुअन में एहसास करें जरा।। ******* दुनिया में प्रेम... Read more