मुझको हरेक खेत ही जलता दिखाई दे- कुछ शेर

ऐसी लगी है आग सियासत की आजकल
मुझको हरेक खेत ही जलता दिखाई दे

************

बेसबब, बेचैन होकर, बह रही है जिंदगी
आजकल खुद से यहाँ, हर आदमी है लापता

************

मौत तो आनी है सबको एक दिन
मौत से पहले तू जीना सीख ले

************

बहुत से ऐब हैं मुझमें, बहुत सी खूबियाँ भी हैं
तुझे क्या चाहिए मुझमें, तेरा अपना नज़रिया है

************

लोधी डॉ. आशा ‘अदिति’
बैतूल

Like Comment 0
Views 157

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share