Skip to content

मुक्त-ग़ज़ल : पूछना तुम तीन होली में ॥

डॉ. हीरालाल प्रजापति

डॉ. हीरालाल प्रजापति

गज़ल/गीतिका

March 12, 2017

उसका मन इस बार हम बन दीन होली में ॥
दान ले लेंगे या लेंगे छीन होली में ॥
श्वेत हों या श्याम हों ; कितने भी हों बेरंग ,
करके रख देंगे उन्हे रंगीन होली में ॥
जिनको गुब्बारा फुलाने में भी हो पीड़ा ,
उनसे बजवाएंगे नचने बीन होली में ॥
उस हृदय की पीठिका में है शपथ हमको ,
होके दिखलाएंगे कल आसीन होली में ॥
हारते आए जो कल तक देखना तुम कल ,
जीत का फहराएँगे हम चीन होली में ॥
कब किसी रंगोत्सव में हम तनिक रत हों ,
पर रहें सच सर्वथा लवलीन होली में ॥
हम उन्हे रँगकर रहेंगे चाहे वो आएँ ,
सूट पहने या महज कोपीन होली में ॥
कोई प्रश्न हमसे करे चिढ़ जाते हैं हम पर ,
एक दो क्या पूछना तुम तीन होली में ॥
( चीन = झण्डा , कोपीन = लँगोट )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Author
Recommended Posts
ग़ज़ल (चलो हम भी बोले होली है तुम भी बोलो होली है )
मन से मन भी मिल जाये , तन से तन भी मिल जाये प्रियतम ने प्रिया से आज मन की बात खोली है मौसम आज... Read more
बरसे है रंग.................... होली आई आज
बरसे है रंग और उड़े है गुलाल होली आई, होली आई, होली आई आज सुर भी है ताल और गीतों के साथ होली आई, होली... Read more
** इक दूजे के होंलें हम **
रंगो का त्यौहार है होली अपनों का प्यार है होली भूलों का सुधार है होली गुलो से गुलज़ार है होली।। ?होली मुबारक मिल जायें होली... Read more
( होली आयी रे होली )
( होली आयी रे होली ) होठो पर मुस्कान बिखेर तन मन को रंगने आयी प्रेम सौहार्द भाई चारा को जीवन को खुशहाल बनाने होली... Read more