Skip to content

मुक्त करो

चौधरी कृष्णकांत लोधी

चौधरी कृष्णकांत लोधी

कविता

May 11, 2017

आगे बढ़ना हमारी फितरत है ,
नाकामी हम जानते नहीं ,,
फिर भी कुछ मुद्दों पर
हम फेल हो गए
यह फेल होना हमारे लिए …
सबक बन गया …
हम आसमां से धरती पर गिर गए
गिरे ऐसे की उठते-उठते
लग जाएंगे महीनों …
इन महीनों को ,
हमें बदलना होगा,,
असफलता में नहीं,
बल्कि सफलता में ,,
हमें बनानी होगी एक पहचान
जो हो सबसे अलग
सबसे जुदा …
दिखा देंगे हम लोगों को
कुछ करके ऐसा काम
जो वह कभी नहीं कर सकते
हमें करना होगा
समाज को दहेज से मुक्त ,
कुर्तियों से मुक्त ,
आपसी कलह से मुक्त ,
अपनी खुद की बुराइयों से मुक्त ,
एक दूसरे को नीचा दिखाने से मुक्त,
छोटों का बड़ों के प्रति आदर ना होने से मुक्त ,
क्षेत्रीय राजनीति से मुक्त ,
अशिक्षा से मुक्त
तब होगा हर इंसान
अपने अंदर के राक्षस से मुक्त !!
शक्तिशाली ,गौरवशाली ,
देश प्रेम से परिपूर्ण श्री रामचंद्र
✍चौधरी कृष्णकांत लोधी नरसिंहपुर मध्य प्रदेश

Share this:
Author

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you