23.7k Members 49.8k Posts

मुक्तक

उस दौर में सुनते हैं के घर-घर में बसी थी,
इस दौर में हम शर्मो-हया ढूँढ रहे हैं।
वैसे तो पाक दामनी सबको पसंद है,
फिर आप क्यों औरत में अदा ढूँढ रहे हैं।

Like Comment 0
Views 5

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
jwala jwala
jwala jwala
Singrauli
497 Posts · 4.5k Views
kavyitri