23.7k Members 50k Posts

मुक्तक

देख उसको ख़ुदा सोचता रह गया
उसके होठों पे कुछ काँपता रह गया
जिस तरह जी सकें जिंदगी को जियें
आजकल बस यही फ़लसफ़ा रह गया।

3 Likes · 4 Views
jwala jwala
jwala jwala
Singrauli
497 Posts · 4.5k Views
kavyitri