23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

मुक्तक

बेरुखी की नजर से सिहर जाएंगे।
टूट कर कांच सा हम बिखर जाएंगे।
यूँ न जाओ सनम दिल मेरा तोड़कर
बिन तुम्हारे कसम हम तो मर जाएंगे।

पवन कुमार नीरज

6 Views
Pavan Kumar Sharma Neeraj
Pavan Kumar Sharma Neeraj
3 Posts · 81 Views
You may also like: