मुक्तक

भरी गागर बुराई की छलकना भी ज़रूरी है।
नज़र से दूर होने पर तड़पना भी ज़रूरी है।
गरजते जो ज़माने में बरसते वो नहीं भू पर-
खरी-खोटी सुनाए तो मसलना भी ज़रूरी है।

डॉ. रजनी अग्रवाल ‘वाग्देवी रत्ना’
महमूरगंज, वाराणसी (उ. प्र.)
संपादिका-साहित्य धरोहर

Like Comment 0
Views 20

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing