मुक्तक · Reading time: 1 minute

मुक्तक

काश तेरी उल्फ़त की हर बात भूल जाऊँ।
काश तेरी कुर्बत की हर रात भूल जाऊँ।
भूल जाऊँ दिल से कभी तेरे सितम को-
काश तेरे ज़ख्मों की सौग़ात भूल जाऊँ।

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

31 Views
Like
502 Posts · 14.9k Views
You may also like:
Loading...