मुक्तक · Reading time: 1 minute

मुक्तक

बीते लम्हे वो और , गुज़रे हुए दिन ,
ख़ुद की साँसों में हम , बसाते रहे,
तुझसे माँगा नहीं था , तुझको कभी ,
फिर भी ख़ुद को तुझ पे, लुटाते रहे ।

22 Views
Like
535 Posts · 22.1k Views
You may also like:
Loading...