मुक्तक · Reading time: 1 minute

मुक्तक

मेरे सिरहाने में तक़िया ख़्वाब का
नींद आती है नवेली की तरह ।
आग की सतरें पिघल कर साँस में
फिर महकती है चमेली की तरह ।

26 Views
Like
510 Posts · 16.3k Views
You may also like:
Loading...