मुक्तक · Reading time: 1 minute

मुक्तक

मुझे मेरी तन्हाई कहीं मार न डाले!
मुझे तेरी रुसवाई कहीं मार न डाले!
हरतरफ नजरों में है यादों का समन्दर,
मुझे तेरी परछाई कहीं मार न डाले!

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

36 Views
Like
502 Posts · 20.4k Views
You may also like:
Loading...