मुक्तक

१-
———————
मधुवन-मधुवन हरियाली है,

औ हरी-हरी तरुवर डाली है,

लता छिछलने लगी देखलो,

कली, सुमन बनने वाली है,
———————-

२-
———————
मेघ हमें न तरसाओ अब,

जल्दी वर्षा बरसाओं अब,

आ धरती की प्यास बुझाओ,

बहुत हुआ जल्दी आओ अब,
——————–

रमेश शर्मा”राज”
बुदनी

1 Like · 1 Comment · 10 Views
विधिस्नातक rnपता- पुलिस कालोनी बुदनी जिला सीहोर (म.प्र.)rnपिन-४६६४४५
You may also like: